Home India जम्मू- कश्मीर विधानसभा दूसरी बार नहीं बन पाएगी राष्ट्रपति चुनाव का हिस्सा

जम्मू- कश्मीर विधानसभा दूसरी बार नहीं बन पाएगी राष्ट्रपति चुनाव का हिस्सा


जम्मू- कश्मीर विधानसभा दूसरी बार राष्ट्रपति चुनाव में हिस्सा नहीं ले पाएगी. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

देश में राष्ट्रपति पद के लिए 18 जुलाई को चुनाव होने हैं. अबकी बार इतिहास में यह दूसरा मौका होगा, जब केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) की विधानसभा शीर्ष संवैधानिक पद के चुनाव का हिस्सा नहीं बन पाएगी. राज्यों की विधानसभाओं के भंग होने के कारण उनके राष्ट्रपति चुनाव (Presidential election) का हिस्सा नहीं होने के कई उदाहरण हैं.

यह भी पढ़ें

ये भी पढ़ें: बैकफुट पर ‘टीम ठाकरे’, बागी विधायकों से कहा-सरकार से हटने को तैयार लेकिन वापस तो आइए, 10 बातें

पहली बार ऐसा उदाहरण 1974 में सामने आया था, तब गुजरात विधानसभा राष्ट्रपति चुनाव का हिस्सा नहीं बन सकी थी. उसके बाद असम, नगालैंड और जम्मू कश्मीर की विधानसभाओं भी भंग होने के कारण विभिन्न चुनावों में भाग नहीं ले सकीं. इस बार जम्मू कश्मीर विधानसभा राष्ट्रपति चुनाव का हिस्सा नहीं बन सकेगी. 2019 में तत्कालीन राज्य को विभाजित कर दो केंद्र शासित प्रदेशों जम्मू कश्मीर और लद्दाख की स्थापना की गई थी एवं जम्मू कश्मीर में विधानसभा का अभी गठन नहीं हुआ है. जम्मू कश्मीर पुनर्गठन अधिनियम में केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर के लिए विधानसभा का प्रावधान है, लेकिन विभिन्न वजहों से अभी तक चुनाव नहीं हो पाया है.

गुजरात में 1974 में नवनिर्माण आंदोलन के केंद्र में था, जिसके कारण चिमनभाई पटेल नीत राज्य सरकार को भंग कर दिया गया था. राष्ट्रपति चुनाव स्थगित करने की मांगों की पृष्ठभूमि के बीच उच्चतम न्यायालय से राय देने को कहा गया था ताकि किसी भी विवाद को खत्म किया जा सके. उच्चतम अदालत ने कहा था कि राष्ट्रपति चुनाव इस तरह से पूरा कर किया जाना चाहिए जिससे नवनिर्वाचित राष्ट्रपति निवर्तमान राष्ट्रपति के कार्यकाल की समाप्ति पर कार्यभार संभाल सकें और इस प्रकार चुनाव आयोजित किए जाने चाहिए, भले ही गुजरात विधानसभा गठित नहीं है.

ये भी पढ़ें: “मैं क्रिमिनल हूं, मैं मानता हूं ….,” आज़म खान ने साधा यूपी पुलिस पर निशाना

वर्ष 1992 के राष्ट्रपति चुनाव में जम्मू कश्मीर और नगालैंड की विधानसभाओं के भंग होने के कारण राष्ट्रपति चुनाव का हिस्सा नहीं बन सकी थीं. उस चुनाव में शंकर दयाल शर्मा राष्ट्रपति निर्वाचित हुए थे. उस चुनाव में जम्मू कश्मीर का प्रतिनिधित्व नहीं हो पाया था क्योंकि वहां आतंकवाद के कारण 1991 के लोकसभा चुनाव भी नहीं हो पाए थे. हालांकि, इस बार 18 जुलाई को हो रहे राष्ट्रपति चुनाव में केंद्रशासित प्रदेश के पांच लोकसभा सदस्य फारूक अब्दुल्ला, हसनैन मसूदी, अकबर लोन, जुगल किशोर शर्मा और जितेंद्र सिंह मतदान करने के पात्र हैं. वर्ष 1982 के राष्ट्रपति चुनाव में असम के विधायक मतदान नहीं कर सके क्योंकि विधानसभा भंग हो गई थी. उस चुनाव में ज्ञानी जैल सिंह राष्ट्रपति चुने गए थे.

संकट में उद्धव सरकार, गुवाहाटी से शिंदे के समर्थन में जुटे विधायकों की तस्वीर आई सामने



Source link

RELATED ARTICLES

“देर आए, दुरुस्‍त आए…” : नुपुर शर्मा मामले में सुप्रीम कोर्ट की तल्‍ख टिप्‍पणी पर नजीब जंग

नई दिल्‍ली : पैगंबर के खिलाफ विवादित टिप्‍पणी मामले में सुप्रीम कोर्ट ने निलंबित बीजेपी नेता नुपुर शर्मा (Nupur sharma)को आड़े हाथ लिया...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

“देर आए, दुरुस्‍त आए…” : नुपुर शर्मा मामले में सुप्रीम कोर्ट की तल्‍ख टिप्‍पणी पर नजीब जंग

नई दिल्‍ली : पैगंबर के खिलाफ विवादित टिप्‍पणी मामले में सुप्रीम कोर्ट ने निलंबित बीजेपी नेता नुपुर शर्मा (Nupur sharma)को आड़े हाथ लिया...

अमेरिकी एक्टर मैट फोर्ड को हुआ मंकीपॉक्स: बोले- रात भर सो नहीं पा रहा, सरकार को वैक्सीनेशन और टेस्टिंग बढ़ाना की जरूरत

Hindi NewsInternationalAmerican Actor Matt Ford Confirms Monkeypox Diagnosis, First Person Ever With Infection To Go Public |वॉशिंगटन6 मिनट पहलेकॉपी लिंकअमेरिकन एक्टर मैट फोर्ड...

Recent Comments