Home Health & Fitness तंबाकू से माैतें रोकने की कवायद: दुनिया सिगरेट में निकोटिन घटाकर मौतें...

तंबाकू से माैतें रोकने की कवायद: दुनिया सिगरेट में निकोटिन घटाकर मौतें रोक रही, भारत में यही नहीं पता कि कौन सा केमिकल खतरनाक


  • Hindi News
  • Happylife
  • Harmful Chemicals In Tobacco Products | Reduce Nicotine Content In Cigarettes

नई दिल्ली13 मिनट पहलेलेखक: पवन कुमार

  • कॉपी लिंक

भारत में बनने वाली हर तरह की बीड़ी और सिगरेट कितने खतरनाक रसायनों वाली है, ये कोई नहीं जानता। इसे जांचने की व्यवस्था नहीं है। ये हालात तब है, जब दुनिया के कई देश सिगरेट से निकोटिन घटाकर मौतें रोकने वाली रणनीति पर आगे बढ़ रहे हैं।

उदाहरण के लिए, अमेरिका जोकि विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के फ्रेमवर्क कन्वेंशन ऑन टोबैको कंट्रोल (FCTC) का सदस्य भी नहीं है, सिगरेट में निकोटिन की मात्रा तय करने की नीति बना रहा है। दूसरी ओर भारत FCTC का सदस्य है, फिर भी अभी तक इस दिशा में नहीं बढ़ा है।

केंद्र सरकार जल्द ले सकती है एक्शन

यही वजह है कि सिगरेट-बीड़ी बनाने वाली कंपनियों की मनमानी चल रही है। लेकिन, अब केंद्र सरकार सिगरेट एंड अदर टोबैको प्रोडक्ट एक्ट (COTPA) में बदलाव करने की प्रक्रिया में है। इसके तहत कंपनियों के लिए यह बाध्यता होगी कि वे सिगरेट के पैकेट पर खतरनाक केमिकल्स का जिक्र करें और यह भी बताएं कि उन रसायनों की मात्रा कितनी है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि सिगरेट में खतरनाक केमिकल्स की जांच के लिए तीन विश्व स्तरीय लैब तैयार कर ली गई हैं। अब एक वैज्ञानिक कमेटी बनाई जाएगी। यह कमेटी तय करेगी कि खतरनाक केमिकल की जांच कैसे की जाए। माना जा रहा है कि अगले दो-तीन महीने में जांच के स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रॉसिजर (SoP) का खाका तैयार हो जाएगा।

कानून में बदलाव के बाद ही कंपनियां बाध्य हो पाएंगी

तंबाकू निषेध पर काम करने के लिए WHO से पुरस्कार प्राप्त डॉ. एसके अरोड़ा का कहना है कि कानून में बदलाव जरूरी है। उसके बाद ही कंपनियां यह बताने के लिए बाध्य होंगी कि उनके उत्पादों में खतरनाक रसायनों की मात्रा कितनी है। कंपनियों द्वारा किए जा रहे दावों की जांच भी हो सकेगी। सिगरेट-बीड़ी में निकोटिन समेत करीब 7 हजार केमिकल होते हैं। इसमें से 200 तरह के टॉक्सिन होते हैं। 69 केमिकल ऐसे होते हैं, जो कैंसर की वजह बनते हैं। अगर इन्हीं रसायनों को नियंत्रित कर दिया जाए तो लाखों मौतें रोकी जा सकती हैं।

सिगरेट में जितनी निकोटिन घटेगी, उतनी मौतें कम होंगी

न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक, अमेरिका में सिगरेट के असर से हर साल 4.8 लाख मौतें होती हैं। इसकी प्रमुख वजह निकोटिन की ज्यादा मात्रा है। अमेरिका अब निकोटिन की कम मात्रा वाली सिगरेट को ही बाजार में लाने की नीति बना रहा है। मई 2023 तक नई नीति लागू हो जाएगी। खास बात यह है कि सिगरेट में निकोटिन की मात्रा को 95% तक घटाने का प्रस्ताव तैयार किया गया है। अमेरिकी सरकार का मानना है कि ऐसा करने से सिगरेट से होने वाली मौतें भी 95% तक घट सकती हैं।

खबरें और भी हैं…



Source link

RELATED ARTICLES

डॉलर के मुकाबले रुपया 12 पैसे मजबूत

शेयर बाजार के आंकड़ों के अनुसार विदेशी संस्थागत निवेशक पूंजी बाजार से निकासी जारी रखे हैं.मुंबई: रुपये में पिछले पांच कारोबारी सत्रों से...

प्रियांशु के लिए फरिश्ता बने एक्टर सोनू सूद: 11 साल की बच्ची को इलाज के लिए मुंबई बुलाया, एक पैर से विद्यालय जाने को...

सीवान13 मिनट पहलेअपने परिवार के साथ बच्ची।एक्टर सोनू सूद एक बार फिर फरिश्ता बनकर सामने आए है। सीवान में एक पैर से 2...

हॉन्गकॉन्ग पहुंचे चीनी राष्ट्रपति: कोरोना ने बाद पहला दौरा; जिनपिंग ने कहा- सत्ता देशभक्तों के हाथ में होना चाहिए, गद्दारों के पास नहीं

Hindi NewsInternationalFirst Tour After Corona; Jinping Said Power Should Be In The Hands Of Patriots, Not With Traitorsबीजिंग3 मिनट पहलेकॉपी लिंकहॉन्गकॉन्ग पर चीनी...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

डॉलर के मुकाबले रुपया 12 पैसे मजबूत

शेयर बाजार के आंकड़ों के अनुसार विदेशी संस्थागत निवेशक पूंजी बाजार से निकासी जारी रखे हैं.मुंबई: रुपये में पिछले पांच कारोबारी सत्रों से...

प्रियांशु के लिए फरिश्ता बने एक्टर सोनू सूद: 11 साल की बच्ची को इलाज के लिए मुंबई बुलाया, एक पैर से विद्यालय जाने को...

सीवान13 मिनट पहलेअपने परिवार के साथ बच्ची।एक्टर सोनू सूद एक बार फिर फरिश्ता बनकर सामने आए है। सीवान में एक पैर से 2...

हॉन्गकॉन्ग पहुंचे चीनी राष्ट्रपति: कोरोना ने बाद पहला दौरा; जिनपिंग ने कहा- सत्ता देशभक्तों के हाथ में होना चाहिए, गद्दारों के पास नहीं

Hindi NewsInternationalFirst Tour After Corona; Jinping Said Power Should Be In The Hands Of Patriots, Not With Traitorsबीजिंग3 मिनट पहलेकॉपी लिंकहॉन्गकॉन्ग पर चीनी...

उदयपुर हत्याकांड को लेकर गुरुग्राम में हुई रैली में लगे नफरती नारे, पुलिस ने दर्ज किया मामला

नई दिल्‍ली : उदयपुर हत्‍याकांड को लेकर गुरुग्राम में बुधवार को एक समुदाय विशेष के खिलाफ भड़काऊ नारे लगाए जाने के मामले में...

Recent Comments